एक संदेश :देश के नाम 

आज हम जो ये त्योहार मना रहे है। बिना किसी डर के अपनो के साथ, अपने परिवार के साथ । किनकी वजह से?

कभी सोचा है

ये  सरहद पे खड़े देश के सच्चे सेवक उन जवानों के कारण जो रात ओर दिन हमारी रक्षा के लिये खड़े रहते है। क्या कभी सोचा है उनका भी परिवार है,उनके भी बहनें अपने भाई का इंतजार करती होगी। पर वो सरहद पर अपना कर्तव्य निभा रहे है। पर क्या हम अपना कर्त्तव्य निभा रहे है। क्या हमने कभी उनकी भावनाओं को समझने की कोशिश की है।

खेर हमारा तो पता नही पर राजस्थान के रियांबड़ी कस्बे की स्कूली छात्राओं ने उनकी भावनाओं को समझा और अपने हाथों से बनाई गई राखियां डोकलाम में तैनात सारे फ़ौजी भाइयो को भेजी है। साथ ही उनके लिए अच्छे मेसेजेस भी भेजे है। शायद उन्हें त्योहार का असली मतलब पता है।

ऐसी पहल होनी चाहिये जिससे फोजी भाइयो का आत्मविश्वास बढ़ेगा।  उन सरहद के रक्षको को ये  एहसास होना चाहिये कि पूरा देश उनके साथ है । हर समय वो उन्हें याद करता है।

एक सैनिक को कुछ नही चाहिए बस उसे वो आदर चाहिए जिसका वो हक़दार है।

तो जब भी कोई त्योहार या खुशी का पल हो अपने आस पास की आर्मी परिवार को जरूर याद करे।

Jai Himd

Thanks a lot for reading this

Pls share it as fast as you can  
 

Advertisements

Author: my640

I want to share my thoughts about life with everyone

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s